ई-लेखा

जाल मंच पर ई-लेख प्रकाशन का दूसरा प्रयास ।

Monday, July 10, 2006

नयी तस्वीर


हाल ही में मैंने अपनी कुछ तस्वीरें ली ।। कुछ समय से शुभचिंतक मुझे कह रहे थे - तस्वीर लगा लो । तो ये लीजिए गरमा गरम आपके सामने पेश हैं ।। दोनों में से जो आपको अच्छी लगे, कृपया टिप्पणी करें ।। पेड़ सहारे या समुद्र किनारे ।। लाइन्स हमेशा खुली हैं ।। जब चाहे टिप्पणी कर सकते हैं ।।

5 Comments:

  • At 9:46 AM, Blogger Pankaj Bengani said…

    दुसरी

     
  • At 3:42 PM, Blogger आशीष श्रीवास्तव said…

    तिसरी

     
  • At 4:29 PM, Blogger संजय बेंगाणी said…

    मुझे तो दोनो एक आदमी कि लग रही हैं. ;)
    फिर क्या फर्क पड़ता हैं? कोई भी लगा लो. शादीशुदा हो तो पत्नि से पुछ कर लगायें, वे जो सुझाएं समझीये वह नहीं लगानी हैं.

     
  • At 4:55 PM, Blogger रत्ना said…

    पहली में कन्धे पर वेताल की भांति कन्या विराजमान है । अब ापकी इच्छा जो चाहे लगा लें ।

     
  • At 5:28 PM, Blogger आलोक said…

    वेताल वाली!

     

Post a Comment

<< Home